love jihad: कक्षा सात की छात्रा को हिजाब पहनाकर ले जा रहा था आसिफ, प्रयागराज में पकड़ा

आजमढ़ के शातिर आसिफ ने कक्षा सात की छात्रा को फ्री फायर और इंस्टाग्राम के जरिये प्रेम के जाल में बरगलाया. फिर उसका अपहरण कर मुंबई ले जाने वाला था. इससे पहले ही उसको पुलिस ने प्रयागराज से धर लिया.

love jihad: कक्षा सात की छात्रा को हिजाब पहनाकर  ले जा रहा था आसिफ, प्रयागराज में पकड़ा
concept pic

आजमगढ़ जिले के आसिफ ने लखनऊ में कक्षा सात की छात्रा को इंस्टाग्राम और फ्री फायर गेम के माध्यम से जाल में फंसाया. इसके बाद उसने बातचीत को आगे बढ़ाया और बच्‍ची को झांसे में लेता गया. फिर 12 मार्च को आरोपी आसिफ छात्रा को गलत इरादे से अपहरण करके लेकर भाग निकला. बच्‍ची को लेकर पहले वह अपने घर गया और फिर सोमवार को उसे लेकर मुंबई जाने की फिराक में था. इससे पहले वह मुंबई निकलता उसे प्रयागराज में सिविल लाइंस स्थित रेलवे स्टेशन के पास से लोगों ने बच्‍ची के साथ पकड़ लिया. मामला दो समुदाय का होने के कारण पुलिस में हड़कंप मच गया और आला अधिकारियों को सूचित किया गया.

 

छात्रा को जाल में फंसाया

आजमगढ़ के सरायमीर थाना क्षेत्र में डंडवा मुस्तफाबाद गांव के रहने वाले आसिफ ने करीब दो साल पहले लखनऊ की रहने वाली कक्षा सात की छात्रा से इंस्टाग्राम और फ्री फायर गेम के माध्यम से दोस्‍ती की थी. छात्रा को लंबे समय से बहला फुसलाकर अपने जाल में फंसा रहा था. फिर वो दिन आ गया जब आसिफ ने अपने मंसूबों को अंजाम देने की ठान ली. आखिरकार 12 मार्च को छात्रा जब स्कूल में परीक्षा दे रही थी आसिफ स्‍कूल के बाहर खड़ा उसका इंतजार कर रहा था. छात्रा जैसे ही बाहर निकली वहां पहले से ही मौजूद आसिफ ने उससे बातचीत करनी शुरू की और फिर उसे झांसे में लेकर भाग निकला.

 

हिजाब पहनाकर ले गया

वह छात्रा को हिजाब पहनाकर 13 मार्च को अपने घर आजमगढ़ ले गया. यहां उसने घरवालों से बातचीत की और फिर 14 मार्च यानि सोमवार को वहां से किशोरी को लेकर मुंबई जाने के लिए निकल गया. देर रात प्रयागराज में सिविल लाइन स्थित रेलवे स्टेशन के बाहर पहुंच गया. जहां काफी देर तक दोनों स्टेशन परिसर में इधर उधर टहलते रहे. मंगलवार सुबह कुछ लोगों को इनकी गतिविधियों पर संदेह हुआ तो इनको पकड़ लिया. पूछताछ की गई तो पता चला कि दोनों अलग-अलग संप्रदाय के हैं. इसके बाद लोगों ने सिविल लाइंस पुलिस को जानकारी दी. जहां मौके पर पहुंची पु‍लिस दोनों को थाने ले आई.

 

मुंबई में करता है एसी का काम

थाने में जब आसिफ से पूछताछ की गई तो उसने बताया कि वह मुंबई में एसी बनाने का काम करता है. वहीं उसने किराए पर कमरा भी ले रखा है. वह किशोरी को मुंबई ले जा रहा था. कार्यवाहक थाना प्रभारी सिविल लाइन इंद्रदत्त द्विवेदी का कहना है कि किशोरी के अपहरण का मामला लखनऊ महानगर थाने में दर्ज है. दोपहर में लखनऊ पुलिस के साथ ही किशोरी के मामा यहां आए. लखनऊ पुलिस ने आसिफ और किशोरी से पूछताछ की और फिर दोनों को साथ लेकर चली गई. बताया गया कि आसिफ छात्रा को ले जाने से पहले हिजाब खरीदकर लाया था. पुलिस को किशोरी के बैग से कापी किताब के साथ हिजाब भी मिला है. बताया गया कि किशोरी के पिता फर्रुखाबाद में रहते हैं. मां का कई वर्ष पहले निधन हो चुका है. छात्रा अपने मामा के घर लखनऊ में रहती है.