योगी ने कर ली तैयारी, मजदूरों के बच्चे पढ़ेंगे बोर्डिंग स्कूल में, अगले सत्र से दाखिला

उत्तर प्रदेश में अब श्रमिकों के बच्चे बोर्डिंग स्कूल में पढ़ने जायेंगे. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ड्रीम प्रोजेक्ट में शुमार अटल आवासीय विद्यालय, फतेहपुर सीकरी क्षेत्र के कौरई गांव में बनाया जा रहा है. आगरा में 71.15 करोड़ रुपये की लागत से अटल आवासीय विद्यालय निर्माण कार्य किया जा रहा है.

योगी ने कर ली तैयारी, मजदूरों के बच्चे पढ़ेंगे बोर्डिंग स्कूल में, अगले सत्र से दाखिला

निर्माणाधीन यह विद्यालय एक हजार छात्र-छात्राओं की क्षमता वाला होगा. इसमें शिक्षण कार्य के अलावा छात्र-छात्राओं के लिए छात्रावास भी बनाए जाएंगे. अटल आवासीय विद्यालय में पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के बच्चों को शिक्षा ग्रहण कराई जाएगी.

अक्टूबर में तैयार हो जाएगा भवन

नवोदय विद्यालय की तर्ज तैयार हो रहे इन विद्यालयों में श्रम विभाग में पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के बच्चों को स्तरीय शिक्षा प्रदान की जाएगी, ताकि वह भी समाज की मुख्यधारा के साथ मिलकर देश के विकास में अपना योगदान दे सकें. आगरा के फतेहपुर सीकरी क्षेत्र के कौरई गांव में बन रहे अटल आवासीय विद्यालय का निर्माण मई 2021 में शुरू हुआ था. इसका निर्माण तेजी से चल रहा है. उम्मीद है कि अक्टूबर माह के अंत तक भवन बनकर तैयार हो जाएगा.

 अगले सत्र से प्रवेश प्रक्रिया

इस आवासीय विद्यालय में निर्माण श्रमिकों के 6 से 14 वर्ष तक की आयु वर्ग के बच्चों को प्राथमिक, जूनियर हाईस्कूल और माध्यमिक शिक्षा की सुविधा उपलब्ध कराते हुए गुणवत्तापरक शिक्षा प्रदान की जाएगी. इनका चयन काउंसलिंग के आधार पर होगा. उम्मीद है कि नए शिक्षा सत्र 2023 में विद्यालय में छात्रों की प्रवेश प्रक्रिया शुरू हो जाएगी.

 ये होगी खासियत

अटल आवासीय विद्यालय में 04 पूर्णकालिक अध्यापक, 03 अंशकालिक अध्यापक, एक वार्डेन, एक लेखाकार, 4 चौकीदार/ चपरासी, एक रसोईया और एक सहायक रसोईया होंगे. इस आवासीय विद्यालय में 5 कक्ष होंगे, जिनमें से एक कक्ष अध्यापकों के लिए, एक कक्ष कार्यालय के लिए और तीन कक्ष बच्चों की शिक्षा के उपयोग के लिए होंगे. इसमें 3 शौचालय, स्वच्छ पेयजल की व्यवस्था के साथ ही निर्बाध बिजली की व्यवस्था भी होगी.

गरीब छात्रों को मिलेगी सुविधा

अटल आवासीय विद्यालय योजना उत्तर प्रदेश के माध्यम से श्रमिक वर्ग के नागरिकों का विकास करने के लिए और उन्हें पढ़ाई के महत्व को समझाने के लिए यूपी सरकार के द्वारा यह योजना जारी की गई है. अच्छी शिक्षा की प्राप्ति करके वह अपने जीवन की गति को एक नया रूप प्रदान कर सकते हैं. इसमें उन सभी गरीब बच्चों को पढाई को मौका मिलेगा, जो खराब आर्थिक स्थिति के कारण स्कूलों में प्रवेश नहीं ले पाते हैं. सरकार श्रमिक श्रेणी के लोगों को योजना के तहत एक सुनहरा अवसर प्रदान कर रही जिससे वह स्थायी रूप से एक जगह से शिक्षा को प्राप्त करके अपने भविष्य की राह को आसान बना सकते हैं.

 योजना के अंतर्गत जिन श्रमिक परिवारों का श्रम विभाग में पंजीकरण है, उन्हें योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा. विद्यालयों में छात्रों को शिक्षा के साथ-साथ खेल के क्षेत्र में भी आगे बढ़ाया जाएगा. छात्र अपनी पसंद के खेलों में भाग ले सकेंगे. इसमें छात्रों का चयन काउंसलिंग के आधार पर किया जाएगा. यहां सीबीएसई और आईसीएसई पैटर्न के आधार पर शिक्षा प्रदान की जाएगी. इस विद्यालय के संचालन की पूरी जिम्मेदारी श्रम विभाग को सौंपी गई है.

ये है शिक्षार्थी चुनने का आधार

  1. अटल आवासीय विद्यालय योजना का लाभ लेने के लिए छात्र के माता पिता उत्तर प्रदेश के मूल निवासी होने चाहिए।
  2. छात्र व उसके माता-पिता का आधार कार्ड होना जरुरी है।
  3. योजना (UP Atal Residential School Scheme) का लाभ राज्य के उन्ही श्रमिकों के बच्चों को प्रदान की जाएगी जो श्रम विभाग में पंजीकृत है।
  4. राज्य के सभी अनाथ व श्रमिक परिवार के बच्चे योजना का लाभ ले सकते हैं।
  5. छात्रों के पास पासपोर्ट साइज फोटो होनी चाहिए।
  6. 6 वर्ष की आयु से लेकर 14 वर्ष तक की आयु वाले बच्चों को स्कूल में प्रवेश हेतु योजना के लिए पात्र माना जायेगा।