घर से चुराए पैसे, खरीदा फोन और रात भर पार्क में बैठे खेलते रहे गेम

FIR. बच्चों के कारनामे आप अपने आस-पास देखते ही रहते होंगे मगर गाजियाबाद जिले में तो इन दो कजिन भाईयों ने कमाल ही कर दिया. पहले दोनों ने अपने घर से पैसे चुराए, उन पैसों से फोन खरीदा और रात भर एक पार्क में बैठकर गेम खेलते रहे. पूरा मामला जानने के लिए पढ़िए पूरी खबर...

घर से चुराए पैसे, खरीदा फोन और रात भर पार्क में बैठे खेलते रहे गेम
concept pic

दो चोर, दो भाई, आरोप अपने ही घर में चोरी को अंजाम दिया. अब आप कहेंगे इसमें क्या बड़ी बात है मगर हम आपको बता दें ये इन दोनों भाईयों की उम्र 9 साल और 12 साल है. दोनों ने प्लान बनाकर अपने घर से 30 हजार रुपए की चोरी कर ली. और ताज्जुब की बात ये है कि इन पैसों से दोनों ने एक मोबाइल फोन और एक वीडियो गेम खरीदा. और इतना ही नहीं दोनों भाई पूरी रात घर से बाहर रहे. पास के ही एक पार्क में दोनों ने वीडियो गेम खेलते हुए पूरी रात वहीं ठंड में गुजार दी. पूरी रात बाहर ठंड में गुजारने की वजह से दोनों सुबह ठंड में अकड़े हुए मिले तो पास के लोगों ने उन्हें अस्पताल पहुंचाया.

 

 चुरा लिए घर से पैसे

मामला गाजियाबाद से सटे साहिबाबाद का है. जहां दो भाई जिनमें से एक की उम्र नौ साल और दूसरे की उम्र 12 साल है. दोनों ने मिलकर घर से पैसे चुराए और उन पैसों से एक फोन और एक वीडियो गेम खरीदा. शुक्रवार यानि 31 दिसंबर की शाम ये दोनों भाई शाम करीब तीन बजे घर से बाहर खेलने के लिए निकले. मगर जब रात को वो दोनों बच्चे घर नहीं आए तो परिवारजन ने इसकी शिकायत पास के ही पुलिस स्टेशन में जाकर की. इस शिकायत के बाद पुलिस ने उस बच्चे के घर जाकर उसके माता-पिता से बात की तो पता चला कि घर से कुछ पैसे भी गायब हैं. इसके बाद पुलिस दूसरे बच्चे के घर गए तो वहां भी यही शिकायत परिवार वालों ने की.

 पूरी रात गुजारी ठंड में

पुलिस ने बच्चों के घर से पैसा लेकर भागने की हर थ्योरी पर दिमाग दौड़ाते हुए उन्हें बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन और तमाम आसपास की जगह पर देखा मगर बच्चों का कोई सुराग नहीं मिला. उधर परिवार के लोगों का हाल बेहाल हो रहा था. इन बच्चों की तलाश में पुलिस जब शहर में घूम रही थी तब उनके पास एक फोन आया जिसमें लोगों ने बताया कि दो बच्चे जो पता नहीं कहा से आए हैं वो पूरी रात हमारे पास के पार्क में बैठे रहे. ठंड की वजह से उन दोनों की हालत खराब थी तो हमने उनको पास के अस्पताल में भर्ती कर दिया. इस सूचना पर पुलिस ने जब अस्पताल जाकर उन बच्चों को देखा तो सारा मामला सुलझ गया.