श्रीलंका लावारिसः राष्ट्रपति राजपक्षे भागे, प्रधानमंत्री विक्रमसिंघे का इस्तीफा, सड़कों से लेकर राष्‍ट्रपति भवन तक प्रदर्शनकारि‍यों का कब्‍जा

श्रीलंका के हालात एक बार फिर बद से बदतर हो गए हैं. आर्थिक संकट में फंसा श्रीलंका बर्बादी की ओर निकल पड़ा है. जहां जनता में त्राहीमाम है, लोग घरों से निकलकर सड़कों पर आ गए हैं. यही नहीं प्रदर्शनकारियों की भीड़ ने राष्‍ट्रपति भवन पर भी कब्‍जा कर लिया है. जहां प्रदर्शनकारियों की भीड़ सुरक्षा बलों के काबू से बाहर हो चुकी है. वहीं श्रीलंका के राष्‍ट्रपति राजपक्षे गोटबाया किसी अनहोनी से पहले राष्‍ट्रपति भवन छोड़कर भाग निकले. वहीं इस जद्दोजहद के बीच प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने इस्तीफा दे दिया है. श्रीलंका में सरकार नाम की चीज नहीं बची है.

श्रीलंका लावारिसः राष्ट्रपति राजपक्षे भागे, प्रधानमंत्री विक्रमसिंघे का इस्तीफा, सड़कों से लेकर राष्‍ट्रपति भवन तक प्रदर्शनकारि‍यों का कब्‍जा
photo sources: twitter

गोटाबाया छोड़ भागे राष्‍ट्रपति भवन

आर्थिक संकट के दुष्‍चक्र से जूझ रहा श्रीलंका हालातों पर काबू नहीं कर पा रहा है. जहां जनता सड़कों पर है, चारों ओर हाहाकार और त्राहिमाम है. और तो और जब राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे अपना राष्ट्रपति भवन छोड़कर भाग गए तो फिर वहां की आम जनता की क्या बिसात. श्रीलंका में जद्दोजहद से जूझ रही जनता का मानों सब्र टूट गया है. वहीं इस संकट भरे समय में श्रीलंका के पार्टी नेताओं ने बैठक शुरू कर दी है. इस बैठक में क्या नतीजा निकलेगा ये जल्‍द ही पता चल जाएगा. लेकिन श्रीलंका में मौजूदा हालात बहुत ही खराब हो गए हैं. प्रदर्शनकारियों ने श्रीलंका के राष्ट्रपति भवन पर पूरी तरह कब्‍जा कर लिया है. बताया जा रहा है कि राजपक्षे राष्ट्रपति भवन छोड़कर भाग गए हैं.

प्रदर्शकारी काबू से बाहर

श्रीलंका की राजधानी कोलंबो में शनिवार 9 जुलाई 2022 को प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति भवन में घुस गए. जहां राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे (Gotabaya Rajapaksa) अपनी जान बचाकर भाग निकले. इस बीच सुरक्षाबलों की कार्रवाई में कई प्रदर्शनकारियों के घायल होने की भी खबर है. प्रदर्शनकारियों की मांग है कि राजपक्षे राष्ट्रपति पद से तुरंत इस्तीफा दें. इस्तीफे की मांग को लेकर राजधानी कोलंबो में जबरदस्त विरोध प्रदर्शन हुआ और लोग राष्ट्रपति भवन में घुस गए. जहां गुस्साए प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए सुरक्षाबलों ने हवा में कई राउंड गोलियां चलाईं.

राष्‍ट्रपति सुरक्षित स्‍थान पर पहुंचे

श्रीलंका में रक्षा विभाग के सूत्रों के हवाले से अंतरराष्ट्रीय न्यूज एजेंसी AFP ने बताया, “राष्ट्रपति को सुरक्षित स्थान पर ले जाया गया.” राष्ट्रपति भवन में घुसने के बाद प्रदर्शनकारी वहाँ के स्वीमिंग पुल में नहाते भी नजर आए. बता दें कि वहां के हालात को लेकर लोग पिछले कई महीनों से सड़कों पर हैं. हिंसा को रोकने के लिए देश के कई हिस्सों में शुक्रवार 8 जुलाई 2022 को कर्फ्यू लगा दिया गया था. पुलिस प्रमुख चंदना विक्रमरत्ने ने कहा कि राष्ट्रपति को पद से हटाने के लिए हजारों लोगों ने शुक्रवार की रात को कोलंबो में प्रवेश किया था. प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए उन पर वाटर कैनन और आँसू गैस के गोलों का प्रयोग किया गया, लेकिन गुस्साए प्रदर्शनकारी नहीं माने. इस प्रदर्शन को देश के विभिन्न तबकों का समर्थन हासिल है. इनमें धर्मगुरु से लेकर विपक्षी नेता और व्यवसायी और आम लोग तक शामिल हैं.

सांसद ने कर ली थी आत्‍महत्‍या

वहीं, कोलंबो का एक और वीडियो सामने आया है, जिसमें कहा जा रहा है कि होटल गालादारी ने प्रदर्शनकारियों के लिए अपने दरवाजे खोल दिए हैं. आंसू गैस से पीड़ित प्रदर्शनकारियों के लिए वहां पानी की व्यवस्था की गई है, ताकि वे अपना चेहरा आदि धो सकें. इसके पहले मई महीने में सत्ताधारी पार्टी के एक सांसद ने प्रदर्शनकारियों के डर से खुद को गोली मारकर आत्‍महत्‍या कर ली थी. बताया जाता है कि अमरकीर्ति अतुकोराला 10 मई को अपनी गाड़ी से निटंबुआ जा रहे थे. इसी दौरान प्रदर्शनकारियों की एक भीड़ ने उन्हें घेर लिया. हालांकि, गाड़ी में से सांसद किसी तरह भागकर एक घर में जा छुपे, लेकिन हजारों की भीड़ ने उस बिल्डिंग को चारों तरफ से घेर लिया. इसके बाद उन्होंने डरकर अपनी रिवॉल्वर से खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली.