बिहार में नितीश सरकार ने शुक्रवार को स्‍कूलों में छुट्टी पर मांगी‍ रिपोर्ट, मुस्लिम बहुल इलाकों के स्‍कूलों में बदले गए नियम कानून

बिहार में मुस्लिम बहुल इलाकों में मौजूद सरकारी स्‍कूलों की व्‍यथा पर नितीश सरकार ने रिपोर्ट मांगी है. जहां मुस्लिम इलाकों में मौजूद स्‍कलों में अवकाश से लेकर प्रार्थना तक बदलने का मामला सामने आया था. जिस पर अब नितीश सरकार ने संज्ञान लिया है और सरकारी स्‍कूलों में अवकाश को लेकर रिपोर्ट तलब की गई है.

बिहार में नितीश सरकार ने शुक्रवार को स्‍कूलों में छुट्टी पर मांगी‍ रिपोर्ट, मुस्लिम बहुल इलाकों के स्‍कूलों में बदले गए नियम कानून
concept pic

स्‍कूलों में शुक्रवार को साप्‍ताहिक अवकाश

रिपोर्ट के अनुसार बिहार में स्‍कूली आंकड़ों की बात करें तो कुल 72663 सरकारी स्कूल हैं, जिनमें से 42573 प्राथमिक स्कूल, 25587 उच्च प्राथमिक, 2286 माध्यमिक और 2217 उच्च माध्यमिक स्कूल हैं. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पूर्णिया में लगभग 200, अररिया में 229, कटिहार में 100 और किशनगंज के लगभग 37 स्कूलों में रविवार के बजाय शुक्रवार की छुट्टी होने की बात सामने आई है. मुस्लिम बहुल इलाकों के स्कूलों में शुक्रवार को छुट्टी दिए जाने की बात सामने आने के बाद बिहार सरकार ने रिपोर्ट तलब की है. वहीं सरकार में साझीदार भाजपा की मांग है कि पूरे बिहार में एक समान छुट्टी होनी चाहिए.

 

500 सरकारी स्‍कूलों में मुस्लिम दबदबा

सभी स्कूलों में एक समान अवकाश को लेकर एनडीए में शामिल जेडीयू और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा सहमत नहीं हैं. जो ‘परम्परा और मिसाल’ के नाम पर वर्तमान हालात बनाए रखना चाहते हैं. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक बिहार के शिक्षा मंत्री और जेडीयू नेता विजय कुमार चौधरी ने ऐसे स्कूलों की लिस्ट मंगाई है. मंत्री ने कहा है कि हमें जानकारी मिलते ही हमने रिपोर्ट तलब की और अधिकारियों से जवाब मांगा है. विभाग के अधिकारियों ने भी इस बावत मौखिक आदेश मिलने की पुष्टि की है. कई रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि बिहार के पूर्णिया, किशनगंज, कटिहार और अररिया के लगभग 500 सरकारी स्कूलों में शुक्रवार को साप्ताहिक अवकाश होता है. ये जिले बिहार के मुस्लिम बहुल जिले माने जाते हैं.

 

17 फीसदी ने 500 स्‍कूलों की बदल दी व्‍यवस्‍था

रिपोर्ट के मुताबिक, बिहार की कुल आबादी में मुस्लिम लगभग 17% हैं. वहीं सबसे अधिक मुस्लिम आबादी किशनगंज जिले में है, जहां लगभग 67% मुस्लिम बताए जाते हैं. इसके बाद कटिहार, अररिया और पूर्णिया में मुस्लिम आबादी 40 से 50% के बीच बताई जाती है. बिहार में सरकारी स्कूलों की कुल संख्या लगभग 73,000 है. इसमें पूर्णिया में लगभग 200, अररिया में 229, कटिहार में 100 और किशनगंज के लगभग 37 स्कूलों में रविवार के बजाय शुक्रवार की छुट्टी होने की बात सामने आई है.

 

खबरों में आने के बाद उठी मांग

बिहार के स्‍कूलों में छुट्टी के दिन की खबरों के वायरल होने के बाद इसे बदलने की मांग उठ रही है. भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता गुरु प्रकाश पासवान ने भी कानून का शासन कायम रहने और संवैधानिक ढांचे को बनाए रखने के लिए राज्य सरकार से इस मुद्दे पर ध्यान देने की आशा जताई है. वहीं जेडीयू के नेता उपेंद्र कुशवाहा के मुताबिक यह एक ‘गैर जरूरी मुद्दा’ है. उन्होंने ट्वीट कर कहा है, “ये एक बेवजह का विवाद खड़ा करने का प्रयास है. विरोध करने वाले जान लें कि संस्कृत विश्वविद्यालयों में हर महीने की प्रतिपदा और अष्टमी की छुट्टी होती है.”

संस्‍कृत विवि को लेकर किया ट्वीट

उपेंद्र कुशवाहा ने अपने ट्वीट के साथ कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय की छुट्टियों का एक कैलेंडर शेयर किया है. जेडीयू के प्रवक्ता नीरज कुमार ने भी शुक्रवार की छुट्टी वाली परम्परा को न छेड़ने की बात कही है. सरकार में शामिल हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (सेक्युलर) के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा, “नितीश सरकार न्याय और विकास में यकीन करती है. स्कूलों को विवाद में घसीटना गलत है. किसी छात्र या उसके अभिभावक को जब इससे दिक्कत नहीं है तो इस पर कुछ लोगों द्वारा न जाने क्यों हंगामा खड़ा किया जा रहा है.”