मंत्री की खास अर्पिता मुखर्जी के टॉयलेट से निकला कुबेर का खजाना, देखकर आंखे रह जाएंगी खुली की खुली

वेस्‍ट बंगाल में ममता सरकार के मंत्री पार्थ चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी के यहां टॉयलेट को मिनी बैंक बनाकर रखा हुआ था. जहां से ईडी को छापेमारी में कुबेर का खजाना मिला है. जिसको देखकर आपकी आंखे खुली की खुली रह जाएंगी. अब तक उनके दो घरों से करीब 50 करोड़ रुपए नकद बरामद हो चुके हैं, जबकि इससे पहले 23 जुलाई को अर्पिता के एक अन्य घर से ईडी ने 21 करोड़ रुपए कैश बरामद किए थे.

मंत्री की खास अर्पिता मुखर्जी के टॉयलेट से निकला कुबेर का खजाना, देखकर आंखे रह जाएंगी खुली की खुली
file photo

अर्पिता मुखर्जी के घर पर पैसों का ढेर

वेस्‍ट बंगाल में पा‍र्थ चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी धनकुबेर निकलीं. उनके दो घरों से करोड़ों रुपए कैश और सोना बरामद किया गया. अर्पिता मुखर्जी शिक्षक भर्ती घोटाले में घिरे पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार के पूर्व शिक्षा मंत्री और वर्तमान कैबीनेट मंत्री की पार्थ चटर्जी की करीबी हैं. बता दें कि बुधवार 27 जुलाई 2022 को प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने अर्पिता मुखर्जी के दूसरे फ्लैट पर छापा मारा. यहां से ईडी को करीब 28.90 करोड़ रुपए कैश और 5 किलो सोना मिला. यह छापेमारी गुरुवार 28 जुलाई 2022 सुबह 4 बजे तक चली. चौंकाने वाली बात ये है कि अर्पिता ने ये पैसा और सोना फ्लैट के टॉयलेट में छिपा रखा था. 

 

10 घंटे चली नोटों की गिनती

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बुधवार को टीचर भर्ती घोटाले में कोलकाता के आसपास तीन जगहों पर एक बार फिर छापेमारी की. इस दौरान अर्पिता मुखर्जी के बेलघरिया स्थित एक और फ्लैट से ईडी को करीब 29 करोड़ रुपए कैश (28.90 करोड़ रुपए) और 5 किलो सोना मिला. ईडी की टीम को ये पैसा गिनने में करीब 10 घंटे का समय लगा. वहीं बड़ी बात ये कि अर्पिता मुखर्जी ने फ्लैट के टॉयलेट को मिनी बैंक बना रखा था. दरअसल, ईडी ने टीचर भर्ती घोटाले से जुड़े मामले में हाल ही में पश्चिम बंगाल में ममता सरकार में मंत्री पार्थ चटर्जी और उनकी करीबी अर्पिता मुखर्जी को गिरफ्तार किया है. अर्पिता मुखर्जी पार्थ चटर्जी की करीबी हैं. 5 दिन पहले ही ईडी को अर्पिता के फ्लैट से 21 करोड़ कैश और तमाम कीमती सामान मिले थे. इस मामले में ईडी ने अर्पिता को 23 जुलाई को गिरफ्तार कर लिया था. 

पार्थ चटर्जी को पार्टी से बाहर करने की मांग

पार्थ चटर्जी और उनकी करीबी अर्पिता के काफी पुराने संबंध माने जा रहे हैं. वहीं उनके पास से मिले इतने धन को लेकर सबकी आंखे खुली की खुली रह गई हैं. वहीं अब ईडी की इस कार्रवाई के बाद से विपक्षी पार्टियां टीएमसी पर पार्थ चटर्जी को कैबिनेट से बाहर करने की मांग कर रही है. इतना ही नहीं शिक्षक भर्ती घोटाले में मनी ट्रेल की जांच कर रही ईडी ने पश्चिम बंगाल माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष टीएमसी विधायक माणिक भट्टाचार्य से भी पूछता की है. वहीं माना जा रहा है अभी इस घोटाले की परते और भी खुलनी बाकी हैं. जिसके लिए एजेंसी जांच में जुटी है.