जय श्री कृष्णा: 15 करोड़ के मामूली बजट की फिल्म कार्तिकेय 2 ने चटा दी सबको धूल

तमिल स्टार निखिल सिद्धार्थ की फिल्म कार्तिकेय 2 ने बॉलीवुड की सभी फिल्मों को धूल चटा दी है. लाल सिहं चड्ढा और रक्षाबंधन जैसी बड़े बजट की फिल्में इस छोटे बजट की फिल्म के सामने टिक नहीं पाई. महज 15 करोड़ रुपए की लागत से बनी इस फिल्म ने बाक्स आफिस पर धमाल मचा दिया है. बीते विकेंड तक फिल्म की कमाई 30 करोड़ पार कर गई है. इस फिल्म ने दिखा दिया है कि फिल्में बजट से नहीं स्टोरी लाइन से चलती है. और बालीवुड को भी ये जल्द ही समझना होगा, बड़े बज ट की फिल्में और लगातार उनका फ्लाप होना कहीं बालीवुड को डुबा न दे.

जय श्री कृष्णा: 15 करोड़ के मामूली बजट की फिल्म कार्तिकेय 2 ने चटा दी सबको धूल

ये फिल्म का दूसरा पार्ट है और तीसरे पार्ट की भूमिका भी दूसरे पार्ट के एड में साफ दिखाई गई है. फिल्म के डायरेक्टर चंदू मोंदेती हैं. फिल्म को पांच भाषाओं में रिलीज किया गया है. पहले इस फिल्म का बजट ज्यादा रखा गया था मगर बाद में ये सिमट कर 15 करोड़ के बजट वाली फिल्म बन गई.

 श्रीकृष्ण और द्वारिका के रहस्य पर बेस

श्रीकृष्ण और द्वारिका के रहस्य पर बनी ‘कार्तिकेय :2’ ने दर्शकों का मन जीत लिया है। जितनी इस फिल्म से उम्मीद नहीं लगाई गई थी, उससे अधिक ये दे देती है। कथा को धर्म के प्रतीकों से जोड़कर रहस्यों का सुंदर जाल बुना गया है। इस तरह की फिल्मो का भारत में पहले कोई भविष्य नहीं था लेकिन कार्तिकेय के दूसरे भाग ने सुनिश्चित किया है कि रहस्य कथाओं को प्रस्तुत करने की लायकी हो तो भारत में भी ऐसी फ़िल्में सराही जा सकती है।

 कार्तिकेय 2 ने की इतनी कमाई

निखिल सिद्धार्थ की तेलुगू फिल्म 'कार्तिकेय 2' की बॉक्स ऑफिस पर जबरदस्त कमाई जारी है। छोटे बजट में बनी साउथ की फिल्म कार्तिकेय 2 ने इंटरनेट पर धमाल मचा रही है. वहीं अगर फिल्म की कमाई पर बात करें तो जाने-माने ट्रेड एनालिस्ट तरण आदर्श ने कार्तिकेय 2 फिल्म की कमाई शेयर करते हुए बताते हैं कि 13 अगस्त को रिलीज हुई इस फिल्म ने 21 अगस्त तक 30 करोड़ से ज्यादा की कमाई की. शुक्रवार को फिल्म ने 2.46 करोड़ और शनिवार को फिल्म की कमाई का आंकड़ा बढ़कर 3.04 करोड़ रुपये हो गया है. वहीं फिल्म की टोटल कमाई की बात करें तो फिल्म ने अब तक 30 करोड़ की कमाई की है.

 रहस्य के साथ तलाशता है श्रीकृष्ण का कड़ा

कार्तिकेय पिछले भाग में मेडिकल का विद्यार्थी था और अब डॉक्टर बन चुका है। इस बार कहानी आगे बढ्ती है और कार्तिकेय द्वारिका चला आता है एक व्यक्ति टकराता है। वह बुरी तरह घायल है। वह कार्तिकेय को श्रीकृष्ण के बारे में कुछ बता रहा है। इसके बाद कार्तिकेय इस रहस्य की खोज में लग जाता है। ग्रीस की लाइब्रेरी से गुप्त सोसाइटी के व्यक्ति को द्वारिका और श्रीकृष्ण से जुड़ा एक रहस्य पता चलता है। भगवान कृष्ण अपने महाप्रयाण से पहले अपने हाथ का कड़ा अपने विश्वस्त को दे गए थे। इस कुंडल पर जो जानकारियां है, उनमे पृथ्वी पर आने वाले जानलेवा वायरसों का इलाज छुपा हुआ है। वह कड़ा बहुत ही सुरक्षित स्थान पर छुपाकर रखा गया है। उसे खोजने के लिए एक विशेष चाबी बनाई गई है, जो दो भागों में विभक्त कर अलग-अलग स्थानों पर छुपा दी गई है। रहस्य के ताने बाने को निर्देशक ने सुंदर ढंग से धर्म के साथ जोड़ा है। ये फिल्म युवाओं को बहुत पसंद आने वाली है। फिल्म में कृष्ण की निरी भक्ति नहीं दिखाई गई है बल्कि उन्हें एक बायोलॉजिकल गॉड की भांति दिखाया गया है।

 भगवान से बढ़कर हैं श्रीकृष्ण

फिल्म में अनुपम खेर एक प्रभावशाली भूमिका में हैं। उनका एक दृश्य दर्शकों को बहुत भा रहा है। इस दृश्य में वे बताते हैं कि कृष्ण भगवान् नहीं अपितु भगवान् से भी बढ़कर है। ये दृश्य वैसा ही है, जैसा श्रीकृष्ण द्वारा अर्जुन को उपदेश देने वाला प्रसंग है। जैसे-जैसे कहानी आगे बढ़ती है, दर्शक की रुचि भी बढ़ती चली जाती है। कंटेंट के स्तर पर फिल्म ज़रा भी कम नहीं पड़ती। श्रीकृष्ण के समय की एक जाति समूह का उल्लेख किया गया है, जो नव कृष्ण भक्तों की हत्या करता है।