करण जौहर की लाइगर चाट गई धूल, भगवान कृष्ण पर बनी कार्तिकेय ने कमा डाले 100 करोड़

ये हिंदी सिनेमा का पुनर्जागरण काल है. लेकिन करण जौहर एंड कंपनी आज भी देश, हिंदू विरोधी एजेंडा में अँधे होकर हकीकत नहीं समझ पा रहे हैं. बॉक्स आफिस पर दो फिल्मों के अंजाम को देखकर समझ सकते हैं कि कैसे अब हिंदू दर्शक घमंड में चूर होकर पब्लिक को मूर्ख समझने वाले निर्माता-निर्देशकों व फिल्मी सितारों को जमीन चटा रहे हैं और वहीं दूसरी ओर हिंदू प्रतीकों व भावनाओं को समझने वाली फिल्मों को सर-आंखो पर बैठा रहे हैं.

करण जौहर की लाइगर चाट गई धूल, भगवान कृष्ण पर बनी कार्तिकेय ने कमा डाले 100 करोड़

एक तरफ कार्तिकेय-2 है. जो भगवान कृष्ण, उनसे जुड़ी मान्यताओं और अंततः कृष्ण रूपी सत्य की तलाश पर बनी है. जिस समय सिनेमा हॉलों में लाल सिंह चड्ढा धूल चाट रही थी, उस समय कार्तिकेय-2 जैसी छोटी बजट की फिल्म अपनी सफलता के झंडे गाड़ रही थी. कार्तिकेय की सफलता अद्भुत है. फिल्म ने सौ करोड़ का आंकड़ा छू लिया है. अंजान से फिल्म सितारे निखिल सिद्धार्थ की फिल्म ‘कार्तिकेय 2’ की टीम ने फिल्म के 100 करोड़ के पास पहुँचने पर आंध्र प्रदेश के कुर्नूल में जनता के बीच जश्न मनाया.  इसमें निर्माता अभिषेक अग्रवाल भी मौजूद रहे. वहीं विजय देवरकोंडा की फिल्म लाइगर दूसरे दिन ही पानी मांग गई. दो दिन में लाइगर ने सिर्फ 17 करोड़ रुपए कमाए.

 कार्तिकेय 2 की सफलता की पार्टी में अभिषेक अग्रवाल ने दर्शकों का धन्यवाद देते हुए कहा कि उन्होंने इस फिल्म को ब्लॉकबस्टर बनाया है. इस दौरान मंच से ‘द कश्मीर फाइल्स’ का जिक्र करते हुए उसकी भी तारीफ़ की गई. अभिषेक अग्रवाल ही इसके भी निर्माता थे. इस वीकेंड फिल्म 100 करोड़ रुपए का आँकड़ा गई. पहले तीन दिन में ही कार्तिकेय ने अपनी लागत वसूल दी थी. दूसरी तरफ करण जौहर की लाइगर का बुरा हाल है. आईएमडीबी पर इसकी रेटिंग दस में से 1.6 है. मतलब ये कि घटिया होने के मामले में इसने लाल सिंह चड्ढा को भी मात दे दी है.