26 जनवरी लालकिला हिंसा के आरोपी दीप सिद्धू की सड़क हादसे में मौत

लाल किले पर हुई हिंसा के आरोपी और पंजाबी एक्‍टर दीप सिद्धू की मंगलवार को सड़क हादसे में मौत हो गई। बता दें कि दीप सिद्धू वही है जो किसान आंदोलन के दौरान लाल किले पर हुई हिंसा को लेकर सुर्खियों में आया था।

26 जनवरी लालकिला हिंसा के आरोपी दीप सिद्धू की सड़क हादसे में मौत
Deep Sidhu dies in road accident (file photo)

सोनीपत में हुआ हादसा

जानकारी के अनुसार दीप सिद्धू के साथ सड़क हादसा दिल्‍ली के पास सोनीपत में हुआ है। इस दौरान दीप सिद्धू की कार में एक महिला भी सवार थी। शुरूआती जाकारी के मुताबिक दीप सिद्धू अपने साथियों के साथ स्‍कॉर्पियो में थे। दुर्घटना में स्‍कॉर्पियो गांड़ी ट्राले से जा भिड़ी। खरखौदा थाना पुलिस मौके पर पहुंची है। जानकारी के अनुसार केंद्र सरकार के कृषि सुधार कानून के विरोध में हुए किसान आंदोलन के दौरान वह चर्चा में आए थे।

लाल किला हिंसा में प्रमुख आरोपी

जहां 26 जनवरी को लाल किले पर हुई हिंसा में उन्‍हें प्रमुख रूप से आरोपी बनाया गया था। हालांकि बाद में उन्‍हें जमानत मिल गई थी। दीप सिद्धू की मौत की खबर आते ही पंजाबी सिनेमा जगत में शोक की लहर दौड़ गई है। उनके दोस्‍तों और फैंस इस घटना की खबर के बाद से स्‍तब्‍ध रह गए हैं। फिलहाल इस पूरी घटना के बारे में अभी पुलिस जांच पड़ताल कर रही है।

दो बार हुई थी गिरफ्तारी

सोनीपत पुलिस के अनुसार, 38 वर्षीय अभिनेता और कार्यकर्ता की मंगलवार को हरियाणा में एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई। द इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार पिछले साल गणतंत्र दिवस पर किसानों के विरोध प्रदर्शन के दौरान लाल किले पर सिख झंडा फहराने के आरोप में सिद्धू को दो बार गिरफ्तार किया गया था।

किसान नेताओं को बेनकाब करने की दी थी धमकी

गणतंत्र दिवस पर दिल्ली की सड़कों पर हुई हिंसा के बाद यूनियनों के निशाने पर आए पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू ने किसान नेताओं को बेनकाब करने की धमकी दी है। इंटरनेट पर वायरल हुए एक वीडियो में सिद्धू ने कहा, "अगर मैं किसान नेताओं को बेनकाब करना शुरू कर दूं, तो वे दिल्ली से नहीं बच पाएंगे।" बता दें कि सिद्धू उन प्रदर्शनकारियों में शामिल थे, जिन्होंने लाल किले के ऊपर धार्मिक झंडा फहराया था। किसानों के ट्रैक्टर परेड के दौरान प्रदर्शनकारियों को लाल किले की ओर जाने के लिए उकसाने के लिए कई किसानों के निकायों ने उन्हें दोषी ठहराया। जहां किसान संगठनों ने दीप सिद्धू पर केंद्र सरकार द्वारा शुरू किए गए कृषि सुधारों के खिलाफ किसानों के शांतिपूर्ण आंदोलन को कथित रूप से बदनाम करने की कोशिश का भी आरोप लगाया।