मणिपुरः देश के पूर्वोत्तर कोने तक भाजपा के विस्तार की कहानी

दस साल पहले तक पूर्वोत्तर में असम के अलावा अन्य राज्यों में विस्तार भारतीय जनता पार्टी के लिए चुनौती थी. अब मणिपुर में पार्टी पूर्ण बहुमत से सरकार बना रही है. इस विस्तार के कारणों पर प्रकाश डाल रहे हैं अमिताभ भूषण.

मणिपुरः देश के पूर्वोत्तर कोने तक भाजपा के विस्तार की कहानी
मणिपुर विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की रैली. फाइल फोटो.

अमिताभ भूषण

पूर्वोत्तर भारत के छोटे से राज्य मणिपुर में  बीजेपी ने बड़ी कामयाबी हासिल की है। बीजेपी के सत्ताई विस्तार के दौर में मणिपुर की जीत कई मायनों में उल्लेखनीय है।मणिपुर के जनादेश की व्याख्या और कारणों की पड़ताल विस्तार से जरूरी है। बीजेपी की जीत के जनादेश में एक बात तो बहुत साफ है कि मणिपुर में बीजेपी की सरकार को लेकर आम मणिपुरी आवाम में प्रोइनकंबेंसी जबरदस्त थी।

अब सवाल ये है कि मुख्यमंत्री एन वीरेन सिंह की सरकार ने ऐसा क्या किया कि पहाड़ और घाटी दोनो ने बीजेपी को भरपूर समर्थन दे दिया।इस सवाल का उत्तर मुख्यमंत्री बिरेन सिंह की नीति में ही निहित है, उस नीति में जिससे  सीएम बिरेन सिंह अपने कैबिनेट के साथियों और अधिकारी के साथ गो टू हिल्स और गो टू विलेज पहुंचे। योजना और नीति के स्तर पर  घाटी और पहाड़ के भेदभाव को ख़त्म करके समभाव से काम करना बीजेपी सरकार की प्रोइंकमबेनशी में एक बड़ा कारण रही है।

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की योजनाओं ने मणिपुर की इस प्रचंड जीत को निर्धारित करने में सबसे बड़ी भूमिका निभाई है। गरीबो के लिए मुफ्त राशन ,शौचालय ,आवास जैसी केंद्रीय योजनाओं के लाभुको का घाटी से पहाड़ तक बीजेपी की जीत में उल्लेखनीय योगदान है। देश के गृहमंत्री अमित शाह की ओर से मणिपुर में शांति और विस्वास बहाली की जो को कोशिश पिछले कुछ वर्षों से जारी है उसका असर भी जीत में बहुत साफ साफ नज़र आ रहा है। नागा ,कूकी और मैतेई  संगठनों के साथा केंद्र की ओर से जारी सम्वाद की कोशिश ने इस चुनाव की धारा को बीजेपी की ओर मोड़ने में बड़ी भूमिका निभाई है। बीजेपी की इस बड़ी जीत में सरकार से अलग बीजेपी संगठन की भूमिका को भी समझना जरूरी है। पिछले डेढ़ वर्षो में मणिपुर के भीतर सभी जिलों में बीजेपी संगठन  ने तेज़ी से अपना विस्तार किया है। 60 हज़ार से ज्यादा नए सदस्य ,हज़ारो नए कार्यकर्ता सैंकड़ो नए नेताओ की एक बड़ी फौज के सहारे बीजेपी ने

अपने मज़बूत  संगठन के सहारे चुनाव को बीजेपीमय  बनाया। राज्य में बीजेपी संगठन और उसके कौशल प्रबंधन का श्रेय सीधे सीधे मणिपुर बीजेपी के संगठन महामंत्री अभय गिरी को जाता है। आरएसएस के पूर्णकालिक अभय गिरी ने मणिपुर में अपने कार्यकाल के मात्र एक साल में बीजेपी संगठन को सरकार के लिए मददगार बना दिया है।

(लेखक वरिष्ठ राजनीतिक विश्लेषक हैं)