13 साल की बच्ची गोद ली, फिर 8 महीने में 80 लोगों ने किया बलात्कार

आंध्र प्रदेश और तेलांगना से दिल दहला देने वाली वारदात सामने आई है. जहां एक मासूम बच्‍ची को कोविड-19 के दौरान उसकी मां की मौत के बाद एक महिला ने कथित तौर पर ‘गोद’ लिया था. रिपोर्ट्स के अनुसार देखभाल के बहाने गोद ली गई इस मासूम को आरोपित महिला ने वेश्‍यावृत्ति में धकेल दिया और फिर उसके साथ लंबे समय तक दरिंदगी का खेल चलता रहा.

13 साल की बच्ची गोद ली, फिर 8 महीने में 80 लोगों ने किया बलात्कार
concept pic

Hyderabad: आंध्र प्रदेश और तेलांगना से एक मासूम के साथ बलात्कार का एक रोंगटे खड़े कर देने वाला सनसनीखेज मामला सामने आया है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार एक 13 वर्षीय मासूम बच्‍ची को 8 महीने से अधिक समय तक वेश्यावृत्ति की अंधी नगरी में रखा गया. जहां इस समयावधि में उस मासूम के साथ करीब 80 पुरुषों के द्वारा बलात्कार किया गया. इस मासूम बच्‍ची को आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में अलग-अलग वेश्‍यालयों में रखा गया. पुलिस ने मंगलवार को इस लड़की का रेस्क्यू किया, जिससे जबरन जिस्मफरोशी करवाई गई. इस मामले में पुलिस ने मंगलवार को भी 10 और आरोपित लोगों को गिरफ्तार किया है. जिसके बाद अब तक कुल 74 आरोपितों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

देखभाल के नाम पर लिया गोद

मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि यह कहानी समाज में चौंकाने वाली है, क्योंकि इस मामले में पिछले साल जून में कोविड-19 के दौरान नाबालिग बच्‍ची की मां की मौत हो गई थी. इस दौरान उसकी मां की दोस्‍ती अस्‍पताल में मुख्‍य आरोपी स्‍वर्ण कुमारी नाम की एक महिला से हुई थी. बच्‍ची की मौत के बाद मुख्य आरोपी स्वर्ण कुमारी ने बच्ची की देखभाल का झांसा देकर उसे कथित तौर पर गोद लिया और अपने साथ ले गयी. इसके बाद से ही उसने मासूम बच्‍ची को वेश्यावृत्ति के लिए मजबूर कर उसके साथ गलत काम कराया.

 

पिता की रिपोर्ट के बाद खुला मामला

रिपोर्ट के अनुसार अगस्त 2021 में लड़की के पिता द्वारा बेटी की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराए जाने के बाद पुलिस हरकत में आई. इसके बाद खोजबीन करती हुई पुलिस मुख्‍य आरोपी स्‍वर्णा कुमारी तक पहुंच गई और लड़की का पता लगाया. बताया जा रहा है कि इस मामले में 80 लोगों की पहचान की गई है, जिनमें अब तक 74 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है और अभी छह आरोपी अभी भी फरार हैं. जिनकी तलाश की जा रही है.

 

आरोपितों में स्‍टूडेंट और विदेशी

पुलिस के अनुसार 19 अप्रैल को गुंटूर की वेस्ट जोन पुलिस ने 10 लोगों को गिरफ्तार किया है, जिनमें बीटेक स्टूडेंट्स भी शामिल हैं. आरोपियों और पीड़िता से पूछताछ करने पर पुलिस को पीड़िता की स्थिति की दर्दनाक और चौंकाने वाली हकीकत का पता चला. ASP के. सुपराजा के मुताबिक पुलिस ने पहले सभी आरोपियों की पहचान की और इसके बाद उनकी धरपकड़ शुरू की. इनमें से कुछ गिरोह चलाने वाले हैं, 35 दलाल हैं और बाकी ग्राहक बनकर पहुंचने वाले लोग हैं. लड़की की उम्र और हालात का फायदा उठाकर कई गिरोहों ने उसकी खरीद-फरोख्त की और उसे प्रदेश में कई जगह बेचा गया. वहीं पुलिस एक आरोपी की तलाश में है जो लंदन में है. इस केस में पुलिस ने विजयवाड़ा, हैदराबाद, काकीनाडा और नेल्लोर से पकड़े गए आरोपियों से एक कार, 53 मोबाइल, तीन ऑटो और कुछ बाइक भी बरामद की हैं.