यूपी में रेप पीड़िता की मां को टिकट, राजस्थान में निर्भया जैसा बलात्कार कांड

राजस्‍थान में एक मंदबुद्धि नाबालिग बच्‍ची के साथ हुई दरिंदगी की वारदात ने निर्भया केस की यादें ताजा कर दीं। मानो एक बार फिर निर्भया को खून से लथपथ सड़क पर देखा गया। घटना राजस्‍थान के अलवर की है, जिसमें पुलिस अभी अपराधियों तक नहीं पहुंच पाई है।

यूपी में रेप पीड़िता की मां को टिकट, राजस्थान में निर्भया जैसा बलात्कार कांड
concept pic

 

“लड़की हूं लड़ सकती हूं” वाला यह कैसा राजस्‍थान है। जहां लड़ने की बात तो छोड़‍िये, दरिंदे हैवान लड़कियों को जीने लायक नहीं छोड़ रहे हैा। पहले ही राजस्‍थान महिलाओं के साथ हैवानियत के मामले में देश में नंबर वन पर है, जहां महिलाओं और बच्चियों के साथ सबसे ज्‍यादा रेप की घटनाएं हुई हैं। अब एक मंदबुद्धि नाबालिग बच्‍ची के साथ गैंग रेप की वारदात ने पूरे राजस्‍थान पर महिलाओं की सुरक्षा को लेकर उंगली खड़ी कर दी है। अलवर में हुई इस घटना से दरिंदों की दरिंदगी साफ नजर आ रही है। सड़क किनारे खून से लथपथ और दर्द से कराहती इस बच्‍ची को देखकर मानों रूह कांप जाती है। दरिंदों ने पहले उसे अपनी हवस का शिकार बनाया और फिर मरने के लिए सड़क किनारे फेंक गए, मानों एक बार फिर निर्भया अपने साथ हुई दरिंदगी के लिए न्‍याय की गुहार लगा रही है।

दरिंदगी की हद पार

घटना अलवर में शिवाजी पार्क थाना क्षेत्र में तिजारा फाटक पुलिया की है। जहां रात में करीब 8 बजे एक नाबालिग युवती को कुछ दरिंदे खून से लथपथ अवस्‍था में फेंक कर चले गए। करीब 16 वर्षीया इस नाबालिग मंदबुद्धि युवती के गुप्तांग से खून बह रहा था और वह दर्द से कराह रही थी। आने-जाने वालों ने उस युवती को देखा तो इसकी सूचना सूचना पुलिस को दी और युवती को अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहीं देर रात उसको हालत खराब होने पर जयपुर रैफर कर दिया गया।

एक बार फिर निर्भया केस

दिल दहलाने वाली इस दरिंदगी की घटना में दिल्ली में हुए निर्भया कांड की तरह एक नाबालिग मंदबुद्धि युवती से हैवानियत की हदें पार की गई हैं। माना जा रहा है कि हैवानों ने युवती का अपहरण किया और फिर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म करके उसके प्राइवेट पार्ट को भी चोटिल किया गया। इसके बाद उसे मरने के लिए दरिंदे तिजारा फाटक पुलिया पर पटक कर चले गए। राहगीरों की सूचना पर शिवाजी पार्क थाना पुलिस मौके पर पहुंची और युवती को अस्पताल पहुंचाया। युवती मंदबुद्धि होने के चलते कुछ बोल पाने में असमर्थ है। घटना की जानकारी मिलते ही एसपी तेजस्वीनी गौतम, जिला कलेक्टर नंनुमल पहाड़िया, एएसपी सरिता सिंह, एडीएम सुनीता पंकज सहित अन्य अधिकारी भी अस्पताल पहुंचे और पूरी जानकारी की।

दरिंदों की तलाश में तीन टीम

एसपी तेजस्विनी गौतम ने बताया कि आरोपियों की तलाश के लिए तीन टीमें गठित की गई है। युवती की पहचान कर ली गयी है, युवती की हालत देखकर उसके साथ दुष्कर्म की घटना से इनकार नहीं किया जा सकता, लेकिन एसपी ने गुप्तांग में कोई नुकीले सामान के इस्तेमाल पर कहा कि अभी मेडिकल रिपोर्ट के बिना कुछ नहीं कहा जा सकता। अस्पताल पहुंचे जिला कलेक्टर ने कहा कि बच्ची की हालत गम्भीर होने के चलते मेडिकल टीम के साथ जयपुर भेजा गया है। पहले बच्ची का ठीक होना जरूरी है, बाकी पुलिस अपने स्तर पर कार्यवाही कर रही है।

आरोपियों की तलाश तेज

एसपी तेजस्वीनी गौतम के साथ एएसपी सरिता सिंह सहित चार थानों के एसएचओ जांच टीम के साथ मौके पर पहुंचे और साक्ष्य इकट्ठे किए। मौके पर एफएसएल टीम और डॉग स्क्वायड को भी बुलाया गया। पता चला कि पीड़ित बच्‍ची मालाखेड़ा थाना क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली है, जो मंगलवार शाम से ही लापता थी। बताया गया कि मंगलवार को माता-पिता कहीं खेती बाड़ी के लिए बाहर गए हुए थे, पीछे से वह युवती लापता हो गयी। मंदबुद्धि और मूकबधिर होने के चलते वह पुलिस को कुछ खास नहीं बता पाई है। अब पुलिस आसपास के सीसीटीवी और उस क्षेत्र में वारदात के समय नेटवर्क में आए मोबाइल की लोकेशन के आधार पर छानबीन में जुटी है। पुलिस का कहना है कि आरोपियों की तलाश तेज कर दी है।