एनएसजी में ठेके के नाम पर 125 करोड़ से ज्‍यादा की ठगी, ठगी में डिप्‍टी कमांडेंट मास्‍टरमाइंड और उसके रिश्‍तेदार भी हिस्‍सेदार

एनएसजी कैंपस में ठेका दिलवाने के नाम पर डिप्‍टी कमांडेंट ने अपने रिश्‍तेदारों के साथ मिलकर करोड़ों की ठगी की वारदात को अंजाम दिया। एसआईटी ने मास्‍टरमाइंड डिप्‍टी कमांडेंट समेत उसकी पत्‍नी, उसकी बहन और जीजा को गिरफ्तार किया है। वहीं पुलिस ने इनके पास से करोड़ों रुपए और लग्‍जरी गाड़‍ियां बरामद की हैं। वहीं एनएसजी कैंपस में ठेके के नाम पर करोड़ों की ठगी ने सनसनी फैला दी है, क्‍योंकि एनएसजी एक आतंकवाद विरोधी इकाई है।

एनएसजी में ठेके के नाम पर 125 करोड़ से ज्‍यादा की ठगी, ठगी में डिप्‍टी कमांडेंट मास्‍टरमाइंड और उसके रिश्‍तेदार भी हिस्‍सेदार
concept pic

हरियाणा के गुरुग्राम में एनएसजी (राष्‍ट्रीय सुरक्षा गार्ड) का कैंपस है, जो गृह मंत्रालय के तहत एक विशिष्‍ट आतंकवाद विरोधी इकाई है। हाल ही में एसआईटी ने इस कैंपस में ठेके दिलवाने के नाम पर लोगों से करोड़ों रुपए ठगने वाले डिप्‍टी कमांडेंट प्रवीण यादव को शिकंजे में ले लिया है। मास्‍टरमाइंड प्रवीण यादव के साथ ठगी में शामिल उसकी पत्‍नी ममता यादव और उसकी बहन रितु यादव के अलावा एक अन्‍य शख्‍स शामिल है। इन सभी आरोपियों ने एनएसजी कैंपस में कांट्रेक्‍ट दिलवाने के नाम पर 125 करोड़ रुपए से ज्‍यादा की ठगी की वारदात को अंजाम दिया है।

मास्‍टरमाइंड की बहन बैंक में मैनेजर

पु‍लिस के मुताबिक इन सभी आरोपियों ने एनएसजी कैंपस में 16 किलोमीटर लंबे पैरीपफेरल रोड और एसटीपी बनाने के साथ-साथ सेंट्रल वेयर हाउस के कॉंट्रेक्‍ट दिलवाने के नाम पर 125 करोड़ से ज्‍यादा की ठगी की। गुरूग्राम पुलिस के अनुसार प्रवीण यादव की पत्‍नी ममता यादव के साथ गिरफ्त में आई प्रवीण की बहन रितु यादव एक्सिस बैंक में बतौर मैनेजर है। रितु यादव और उसके पति नवीन यादव समेत एक्सिस बैंक के खिलाफ भी मानेसर थाने में तीन अलग-अलग तीन एफआईआर दर्ज की गई हैं। गुरुग्राम पुलिस ने इस पूरे मामले में इनके पास से 13 करोड़ 81 लाख रुपये कैश बरामद किए गए हैं । साथ ही इनके पास से बीएमडब्ल्यू और मर्सडीज समेत चार लग्जरी कारें बरामद की गई हैं।

स्‍टॉक मार्केट में घाटे को पूरा करने के लिए ठगी

गुरुग्राम के एसीपी प्रीतपाल सिंह ने जानकारी दी कि आरोपी डिप्टी कमांडेट प्रवीण यादव कुछ समय पहले बीएसएफ से डेप्यूटेशन पर एनएसजी में पोस्ट हुआ था। प्रवीण ने लोगों को एनएसजी कैंपस में ठेका दिलवाने के लिए कहा और इसी दौरान इसके संपर्क में कुछ लोग आए। प्रवीण ने तीन लोगों को एनएसजी में कंस्ट्रक्शन का टेंडर दिलाने के नाम पर सवा सौ करोड़ रुपये ऐंठ लिए। पुलिस के मुताबिक, आरोपी प्रवीण यादव की बहन रितु यादव एक्सिस बैंक में बतौर मैनेजर काम करती है। इन्होंने एनएसजी के फर्जी लेटरहेड बनाकर NSG के नाम पर बैंक में अकाउंट खोला और उसमें करोड़ों रुपये ट्रांसफर करा लिए। पुलिस ने बताया कि बीएसएफ में रहते वक्त प्रवीण यादव ने स्टॉक मार्केट में 60 लाख का घाटा खाया और उसके बाद उस घाटे को पूरा करने के लिए एनएसजी केंपस में कंस्ट्रक्शन वर्क दिलाने के नाम पर 125 करोड़ रुपये की कई लोगों से ठगी कर डाली। इसका खुलासा शिकायत कर्ताओं द्वारा अपना पैसा वापस मांगे जाने पर हुआ।

एनएसजी के खाते की वजह से झांसे में आए लोग

मुख्य आरोपी और मास्‍टरमाइंड प्रवीण यादव कंस्ट्रक्शन कंपनियों के मालिकों से सीधे एनएसजी के खाते में पैसे जमा कराता था। वह कहता था कि कोविड-19 की वजह से ई-टेंडरिग नहीं की जा रही है। इससे लोग उसके झांसे में आ जाते थे। मानेसर स्थित एनएसजी कैंपस में कहां पर क्या काम होना है, उसके बारे में भी विस्तार से जानकारी देता था। टेंडर का फार्म भरवाने के कुछ दिनों बाद वर्क आर्डर की कापी दे देता था। इससे उसके ऊपर किसी को शक नहीं होता था। यही नहीं जो झांसे में आ जाता था उसे ही कहता था कि आप अपने जानकारों को टेंडर भरने के लिए लेकर आओ, बहुत काम है। एनएसजी की वजह से लोग अधिक छानबीन नहीं करते थे।

एनएसजी भी कर रही है छानबीन

एसीपी गुरुग्राम प्रीतपाल के अनुसार अब एनएसजी भी अपने स्तर पर छानबीन कर ही है, ताकि आगे से इस तरह की शिकायत सामने न आएं। यही नहीं इस वारदात के बाद सर्विलांस बढ़ाने के ऊपर और अधिक जोर दिया जाएगा। एनएसजी के पीआरओ का कहना है कि गुरुग्राम पुलिस जांच कर रही है। जांच में एनएसजी की ओर से जो भी सहयोग दिया जाएगा। गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। असिस्टेंट कमांडेंट नवीन कुमार की गिरफ्तारी को लेकर पूरी ताकत झोंकी हुई है। जल्द ही वह भी गिरफ्त में होगा। किस खाते में कितनी राशि ट्रांसफर की गई, इस बारे में पूरी जानकारी हासिल की जा रही है।